stress is hidden in the planets

Reason for Stress is Hidden in the Planets

Reason for Stress is Hidden in the Planets

आइए जानते जैसा क्या है उपाय: हमारे जीवन में मानसिक कष्ट भी कम परेशान नहीं करता है . कोई न कोई Stress हमेशा रहता हैं, वैसे इस तनाव का ग्रह नक्षत्र से भी संबंध होता हैं,आइए जानते है इसके कारण और उपाय:

हम हमेशा सोचते रहते हैं ऐसा क्या करें जिसमें हमारी जिंदगी से मानसिक तनाव दूर हो जाए,ऐसा कुछ तो हो जाए जिससे हमारी जिंदगी तनाव रहित हो l इसके लिए हम बहुत कोशिश करते हैं जो कामयाब नहीं हो पाती हैं, इसके पीछे का एक बहुत बड़ा कारण है तनाव के ग्रहों का हम पर पड़ने वाला असर, क्योंकि तनाव हमारे मन की एक अवस्था है,यह हमारे विचार, व्यवहार और संस्कार पर निर्भय करती हैं l ज्योतिष में तनाव का सीधा  संबंध चंद्रमा से होता हैं l

Want to Know More: About Us

Effects of Stress and ways to Overcome them

जब चंद्रमा आठवें भाग में हो तो सेहत संबंधी Stress होता हैं,हाथ में चंद्र पर्वत पर दाग धब्बे होने से जीवन में तनाव चंद्र पर्वत पर दाग हो तो छोटी बीमारी भी भयानक लगने लगती हैं l आइए जानते है इसके क्या उपाय हैं:

  • सोमवार के दिन खीर बनाए और भगवान शिव को भोग लगाए , और खाना खाने के बाद आप यह खीर खा लें l
  • जब आप सोने जा रहे है उसके पहले 9 बार गायत्री मंत्र का मंत्र पढ़ें l
  •  चांदी के चेन में एक मून स्टोन चांदी में मढवाकर पहनें l

Job or Business Stress

अगर आपकी कुंडली में चंद्रमा अग्नि राशि में हैं तो नौकरी व कारोबार में Stress होता हैं l सूर्य का चंद्रमा से संबंध हो तो नौकरी या कारोबार में तनाव रहता हैं l चंद्र पर्वत पर टूटी रेखाएं हो तो आदमी नौकरी या कारोबार बदलता रहता हैं, अपने करियर को लेकर तनाव में रहता हैं l
ऐसे दूर करे:

  • हर शनिवार को भगवान शिव को दूध मिलाकर जल चढ़ाएं l इसके बाद ॐ चंद्रशेखराय नम: का कम से कम 108 बार जाप करें l
  •  पीपल के पेड़ के नीचे सरसों का तेल का दीपक जलाएं l
  • किसी गरीब व्यक्ति को खाना खिलाएं l

Want to Know about Digital MarketingDigital Marketing Techniques Visit Please

Stress

Stress in Married Life

अगर कुंडली में चंद्रमा के साथ ब्रहस्पति कमजोर होता हैं,ऐसे में महिलाएं शादी शुदा जीवन को लेकर Stress में रहती हैं l चंद्रमा के साथ शुक्र कमजोर हो तो पुरुष इस तनाव से ग्रसित रहते हैं l

ऐसे दूर करें:

  • सोमवार को भगवान शिव को इत्र चढ़ाएं,इसके बाद शिवलिंग पर जलधारा चढ़ाएं l
  • ॐ नमो भगवते सोमनाथाय का जाप कम से कम 108 बार करें l
  • शुक्रवार को खट्टी चीज बिल्कुल न खाएं l

संतान से तनाव:

चंद्रमा राहु या शनि से पीड़ित हो तो संतान संबंधी तनाव रहता हैं,अगर चंद्रमा का संबंध लग्न या बारहवें भाव से हो तो,संतान के विवाह संबंधी तनाव होता हैं l

ऐसे दूर करें:
सोमवार को  शिवलिंग पर पंचामृत चढ़ाएं,इसके बाद जल चढ़ाकर शिव चालीसा का पाठ करें l

For any Queries: Contact Us

ज्योतिष का मानना है कि तनाव विभिन्न कारकों के कारण हो सकता है, जिनमें शामिल हैं:

  1. आपकी जन्म कुंडली में कुछ ग्रहों की स्थिति।उदाहरण के लिए, शनि अक्सर तनाव और चिंता से जुड़ा होता है, जबकि बृहस्पति प्रचुरता और खुशी से जुड़ा होता है। यदि आपकी जन्म कुंडली में शनि प्रमुख है तो आपको तनाव होने की संभावना अधिक हो सकती है।
  2. आपकी राशि। कुछ राशियों में दूसरों की तुलना में तनाव होने की संभावना अधिक होती है। उदाहरण के लिए, कन्या और मकर राशि वाले मेहनती और पूर्णतावादी होने के लिए जाने जाते हैं, जिससे तनाव हो सकता है।
  3. आपकी चंद्र राशि।** चंद्र राशि आपके भावनात्मक स्वभाव से जुड़ी है। यदि आपकी चंद्र राशि चुनौतीपूर्ण स्थिति में है, तो आप भावनात्मक तनाव से ग्रस्त हो सकते हैं।
  4. आपका गोचर। गोचर समय के साथ आकाश में ग्रहों की चाल है। जब एक पारगमन ग्रह आपके जन्म चार्ट में किसी ग्रह पर एक पहलू बनाता है, तो यह उस ग्रह की ऊर्जा को सक्रिय कर सकता है और आपके जीवन में संबंधित विषयों को ला सकता है। यदि कोई गोचर ग्रह तनाव से जुड़े किसी ग्रह पर चुनौतीपूर्ण पहलू बनाता है, तो उस दौरान आपको तनाव में वृद्धि का अनुभव हो सकता है।

यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि ज्योतिष कोई नियतिवादी विज्ञान नहीं है। यह निश्चित रूप से भविष्यवाणी नहीं कर सकता कि आप अपने जीवन में तनाव का अनुभव करेंगे या नहीं। हालाँकि, यह उन कारकों के बारे में अंतर्दृष्टि प्रदान कर सकता है जो तनाव में योगदान कर सकते हैं और आप इसे कैसे प्रबंधित कर सकते हैं।

अगर आप तनाव से जूझ रहे हैं तो पेशेवर मदद लेना जरूरी है। एक चिकित्सक आपके तनाव के मूल कारणों की पहचान करने और स्वस्थ मुकाबला तंत्र विकसित करने में आपकी मदद कर सकता है। आप सहायता समूह और ऑनलाइन संसाधन भी पा सकते हैं जो तनाव को प्रबंधित करने में आपकी सहायता कर सकते हैं।

ज्योतिषीय दृष्टिकोण से तनाव प्रबंधन के लिए यहां कुछ सुझाव दिए गए हैं:

  1. अपने ट्रिगर्स को पहचानें।** वे कौन सी चीजें हैं जो आपके तनाव को ट्रिगर करती हैं? एक बार जब आप अपने ट्रिगर्स को जान लेते हैं, तो आप उनसे बचने या उनसे निपटने के लिए रणनीतियां विकसित करना शुरू कर सकते हैं।
  2. अपने शारीरिक स्वास्थ्य का ख्याल रखें।** जब आप तनावग्रस्त होते हैं, तो आपका शरीर लड़ाई-या-उड़ान मोड में चला जाता है। इससे सिरदर्द, मांसपेशियों में तनाव और थकान जैसे शारीरिक लक्षण हो सकते हैं। पर्याप्त नींद लेना, स्वस्थ भोजन खाना और नियमित व्यायाम करना सुनिश्चित करें।
  3. विश्राम तकनीकों का अभ्यास करें।** कई अलग-अलग विश्राम तकनीकें हैं जो तनाव को कम करने में मदद कर सकती हैं। कुछ लोकप्रिय तकनीकों में योग, ध्यान और गहरी साँस लेना शामिल हैं।
  4. प्रियजनों के साथ समय बिताएं।** तनाव के प्रबंधन के लिए सामाजिक समर्थन महत्वपूर्ण है। उन लोगों के साथ समय बिताना सुनिश्चित करें जो आपको खुश और समर्थित महसूस कराते हैं।
  5. ऐसी चीज़ें करें जिनमें आपको आनंद आता है।** जब आप तनावग्रस्त होते हैं, तो उन चीज़ों को करने के लिए समय निकालना ज़रूरी है जिनमें आपको आनंद आता है। इसमें पढ़ना, संगीत सुनना, प्रकृति में समय बिताना या कोई शौक पूरा करना शामिल हो सकता है।

यदि आप स्वयं तनाव को प्रबंधित करने के लिए संघर्ष कर रहे हैं, तो कृपया पेशेवर मदद के लिए संपर्क करें। एक चिकित्सक आपके तनाव के मूल कारणों की पहचान करने और स्वस्थ मुकाबला तंत्र विकसित करने में आपकी मदद कर सकता है।